Bewaqoofi – Yeh Saali Aashiqui Lyrics | Vardhan Puri | Shivaleeka Oberoi | Armaan Malik | Hitesh Modak

Bewaqoofi – Yeh Saali Aashiqui Lyrics

Kehte hain ki ishq insaan ki sabse badi zaroorat hoti hai
Lekin doston agla gaana aapko yeh batlayega
Ki pyar mohabbat kuchh nahi
Bas bewaqoofi hai

Pyar mohabbat bewaqoofi
Yeh dildaari bewaqoofi
Meethi methi dhokhebaazi
Aitbaari bewaqoofi

Dil kaagaz ka tudka hai
Angaron pe mat rakhna
Paagal pachhtayehga tu aur kya

Sulge sulge jazbon pe
Geele geele se aasu
Pal pal barsayega tu aur kya

Pyar mohabbat bewaqoofi
Yeh dildaari bewaqoofi
Meethi methi dhokhebaazi
Aitbaari bewaqoofi

Yeh kyun mile vaade farzi jaali
Yeh kyun mili raatein dardon wali
Yeh kyun aankhon mein hai laali
Yeh kyun mili neendein kaali kaali

Toota kyun aasmaan mera
Toota kyun savera
Chhoota kyun rang rooh ka
Chhoota is tarah

Pyar mohabbat bewaqoofi
Yeh dildaari bewaqoofi
Meethi methi dhokhebaazi
Aitbaari bewaqoofi

Bewaqoofi – Yeh Saali Aashiqui Lyrics in Hindi

प्यार मोहब्बत बेवक़ूफ़ी, ये दिलदारी बेवक़ूफ़ी
मीठी-मीठी धोकेबाज़ी, ऐतबारी बेवक़ूफ़ी
दिल कागज़ का टुकड़ा है अंगारों पे मत रखना
पागल पछताएगा तू और क्या?
सुलगे-सुलगे जज़्बों पे गीले-गीले से आँसू
पल-पल बरसाएगा तू और क्या?
प्यार मोहब्बत बेवक़ूफ़ी, ये दिलदारी बेवक़ूफ़ी
मीठी-मीठी धोकेबाज़ी, ऐतबारी बेवक़ूफ़ी
ये क्यूँ मिले वादें फ़र्ज़ी-जाली?
ये क्यूँ मिली रातें दर्दों वाली?
ये क्यूँ आँखों में है लाली?
ये क्यूँ मिली नींदें काली-काली?
टूटा क्यूँ आसमाँ मेरा? रूठा क्यूँ सवेरा?
छूटा क्यूँ रंग रूह का? छूटा इस तरह
प्यार मोहब्बत बेवक़ूफ़ी, ये दिलदारी बेवक़ूफ़ी
मीठी-मीठी धोकेबाज़ी, ऐतबारी बेवक़ूफ़ी
यूँ तो नही मेरे हिस्से में तू
फ़िर क्यूँ मेरे सारे क़िस्से में तू?
ये क्यूँ हुवे हम ख़ाली-ख़ाली?
ये क्यूँ हुई दूरी मीलों वाली?
टूटा तेरा-मेरा साथ क्यूँ? रूठा मेरा साया
छूटा हाथों से वो हाथ क्यूँ? छूटा क्यूँ बता?
प्यार मोहब्बत बेवक़ूफ़ी, ये दिलदारी बेवक़ूफ़ी
मीठी-मीठी धोकेबाज़ी, ऐतबारी बेवक़ूफ़ी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *